नई दिल्ली : भाजपा के वरिष्‍ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के विवादित बयान को लेकर हंगामा मच चुका है। मामले को लेकर पार्टी की वरिष्‍ठ नेता और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने राहुल को आड़े हाथ लिया। उन्होंने कहा कि राहुल के बयानों ने हमें ठेस पहुंचा है, उन्हें भाषा की मर्यादा का ध्यान रखना चाहिए। सुषमा ने शनिवार सुबह अपने ट्विटर वॉल पर लिखा कि- राहुलजी, अडवाणीजी हमारे पिता तुल्य हैं…आपके बयान ने हमें बहुत आहत किया है…कृपया भाषा की मर्यादा रखने की कोशिश करें… इस कमेंट के साथ उन्होंने #Advaniji भी किया है।https://twitter.com/SushmaSwaraj/status/1114381351048716289

यदि आपको याद हो तो कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को चन्द्रपुर की रैली में कहा था कि हिंदू धर्म में सबसे जरूरी होता है गुरु…गुरु-शिष्य का एक रिश्ता होता है…मोदीजी के गुरु कौन हैं…आडवाणीजी…शिष्य गुरु के समक्ष हाथ तक नहीं जोड़ता है। स्टेज से उठाकर गुरु को नीचे फेंक दिया गया… जूता मारके आडवाणीजी को स्टेज से उतारने वाले हिंदू धर्म की बात करते नजर आते हैं। हिंदू धर्म में कहां उल्लेख किया गया है कि लोगों को मारना चाहिए…

गौर हो कि भाजपा के स्थापना दिवस से 2 दिन पहले लाल कृष्ण आडवाणी ने एक ब्लॉग में लिखा। इस ब्लॉग में उन्होंने लि खा कि भाजपा ने कभी अपने राजनैतिक विरोधियों को दुश्मन या देशद्रोही नहीं माना है। अपनी परंपरागत सीट गांधीनगर से इस बार टिकट नहीं मिलने के बाद आडवाणी ने यह बात कही। आडवाणी के इस ब्लॉग के बाद से ही विरोधी दल पीएम मोदी पर लगातार नि शाना साध रहे हैं।