नई दिल्ली: सुभाष चंद्र गर्ग ने विभाग बदलने के एक दिन बाद ही रिटायरमेंट (वीआरएस) लेने का आवेदन दे दिया। न्यूज एजेंसी ने सूत्रों के हवाले से यह रिपोर्ट दी है। गर्ग को बुधवार को वित्त मंत्रालय से हटाकर बिजली मंत्रालय में ऊर्जा सचिव की जिम्मेदारी दी गई थी। इससे पहले वे वित्त मंत्रालय के आर्थिक मामलों के विभाग में वित्त सचिव के पद पर थे। उनका सेवाकाल अगले साल अक्टूबर तक है। निवेश एवं सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग (DIPAM) के सचिव अतनु चक्रबर्ती आर्थिक मामलों के नए सचिव बनाए गए हैं।

यह स्पष्ट नहीं कि सरकार गर्ग का आवेदन स्वीकार करेगी
गर्ग वित्त मंत्रालय में सबसे वरिष्ठ अधिकारी थे। वे वित्तीय नीति और आरबीआई संबंधी मामलों के प्रभारी थे। बजट तैयार करने की प्रक्रिया में शामिल थे। वित्त मंत्रालय को हाई प्रोफाइल माता जाता है। इसके मुकाबले ऊर्जा मंत्रालय की अहमियत कम समझी जाती है।

न्यूज एजेंसी ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि गर्ग गुरुवार सुबह वित्त मंत्रालय पहुंचे लेकिन दोपहर में वहां से चले गए। यह स्पष्ट नहीं है कि सरकार उनका वीआरएस आवेदन स्वीकार करेगी या नहीं।

गर्ग 1983 बैच के राजस्थान कैडर के आईएएस हैं। 2014 में वे केंद्र में आए थे। 2017 में आर्थिक मामलों के विभाग (डीईए) के सचिव बने थे। इस साल मार्च में ए एन झा के रिटायरमेंट के बाद गर्ग वित्त सचिव बनाए गए थे।