नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने आतंकी हमले की आशंका को देखते हुए अमरनाथ यात्रियों और पर्यटकों को जल्द से जल्द घाटी छोड़ने को कहा है। वहीं ब्रिटेन, जर्मनी और ऑस्ट्रेलिया की सरकारों ने भी शनिवार को एडवायजरी जारी की। इसमें अपने लोगों को कश्मीर नहीं जाने के लिए निर्देश जारी किए गए हैं।

ब्रिटेन ने अपने नागरिकों से सतर्क रहने और स्थानीय अधिकारियों की सलाह मानने के लिए कहा है। नई दिल्ली में ब्रिटिश दूतावास भी घटनाक्रम पर नजर बनाए हुए है। ब्रिटेन के विदेश विभाग के मुताबिक, घाटी में बमबारी, ग्रेनेड हमले, गोलीबारी और अपहरण समेत हिंसा का खतरा है। लिहाजा ब्रिटिश नागरिक जम्मू-कश्मीर की यात्रा न करें।

जर्मनी और ऑस्ट्रेलिया ने भी यात्रियों को सतर्क रहने के लिए कहा

जर्मनी ने भी अपने नागरिकों को इसी तरह की एडवायजरी जारी की है। सरकार ने नागरिकों से कहा है कि ऐसे समय में घाटी की यात्रा करना ठीक नहीं है। साथ ही यात्रियों से जम्मू-कश्मीर की परिस्थितियों से अवगत रहने के लिए कहा है। इसी तरह ऑस्ट्रेलिया की सरकार ने भी नागरिकों को कश्मीर जाते समय सतर्क रहने के लिए कहा है।

सेना ने शुक्रवार को अमरनाथ यात्रा मार्ग के पास आतंकियों के ठिकाने से पाकिस्तान में बनी बारूदी सुरंग (लैंडमाइन) और अमेरिकी स्नाइपर गन मिलने का खुलासा किया था। गृह विभाग के प्रमुख सचिव शालीन काबरा ने नोटिस जारी करते हुए शनिवार को कहा था कि आतंकवादियों की धमकी और वर्तमान स्थिति को देखते हुए श्रद्धालु और पर्यटकों से कहा गया है कि वे अपनी यात्रा अवधि में कटौती करके घाटी से चले जाएं।

खराब मौसम के चलते अमरनाथ यात्रा 4 अगस्त तक रोकी गई थी

इससे पहले पहले खराब मौसम के चलते अमरनाथ यात्रा 4 अगस्त तक रोक दी गई थी। शुक्रवार को भारतीय सेना ने यात्रियों पर आतंकी हमले की आशंका जताई थी। पाकिस्तानी सेना और आतंकी अमरनाथ यात्रा के दौरान लोन वुल्फ अटैक की तैयारी में थे। जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने अमरनाथ यात्रियों और पर्यटकों को कश्मीर से जल्द वापस लौटने की सलाह दी थी।

कश्मीर में पर्यटक फंसे
जम्मू-कश्मीर में मौजूद अमरनाथ यात्रियों और पर्यटकों के लिए कश्मीर से जल्द से जल्द लौट जाने की एडवाइजरी जारी की गई है। इसके बाद हजारों पर्यटक और अमरनाथ यात्री घाटी से बाहर निकलने की कोशिश में लगे हैं। कश्मीर गए लोगों के परिजन परेशान हैं। एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के मुताबिक, घाटी से बाहर जाने के लिए शनिवार को 6,126 यात्री श्रीनगर एयरपोर्ट पर पहुंचे थे। इनमें से 5829 यात्री 32 शेड्यूल फ्लाइट से रवाना हो गए। वहीं, श्रीनगर से दिल्ली का हवाई किराया 22 हजार रु. तक पहुंच गया है। श्रीनगर से जम्मू की फ्लाइट का टिकट 10 हजार रु से ज्यादा में मिल रहा है।