नई दिल्ली. लोक कल्याण मार्ग स्थित प्रधानमंत्री आवास पर सोमवार को कैबिनेट और सुरक्षा समिति (सीसीएस) की अहम बैठक हुई। बताया जा रहा है कि इसमें कश्मीर के हालात पर चर्चा हुई। बैठक खत्म होने के बाद कोई भी बयान जारी नहीं किया गया। गृह मंत्री आज लोकसभा और राज्यसभा में बयान देंगे। सूत्रों के मुताबिक, जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर सरकार कोई बड़ा फैसला ले सकती है।

इससे पहले गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, गृह सचिव राजीव गौबा और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा व्यवस्था और मौजूदा हालात की समीक्षा की थी। दूसरी ओर, श्रीनगर में फारूक अब्दुल्ला के घर पर महबूबा मुफ्ती और स्थानीय दलों के नेता जुटे थे। इन्होंने केंद्र सरकार की कार्रवाई का विरोध किया था। गृह मंत्री शाह 3 दिन (8 से 10 अगस्त तक) के लिए कश्मीर जा सकते हैं।

मोबाइल इंटरनेट बैन, नेता नजरबंद

जम्मू-कश्मीर में बने तनाव के हालात के बीच रविवार रात 12 बजे श्रीनगर में तीनों पूर्व मुख्यमंत्रियों फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती को नजरबंद कर दिया गया। पुलिस ने बताया कि सुरक्षा के नजरिए से संवेदनशील बने कई इलाकों में धारा-144 लागू कर दी गई है। प्रशासन ने राज्य में रैलियों पर भी रोक लगा दी है। साथ ही मोबाइल इंटरनेट बंद कर दिया गया है। सोमवार से राज्य में सभी स्कूल-कॉलेज भी बंद रहेंगे।