नई दिल्ली: पूर्व विदेश मंत्री और बीजेपी की कद्दावार नेता सुषमा स्वराज की अस्थियां गंगा में प्रवाहित कर दी गई. सुषमा स्वराज की बेटी बांसुरी ने उनकी अस्थियों को हापुड़ में गंगा में प्रवाहित किया. इस दौरान सुषमा स्वराज के पति स्वराज कौशल भी बेटी के साथ मौजूद रहे. बता दें कि मंगलवार देर रात सुषमा स्वराज को कार्डियक अरेस्ट आने के बाद दिल्ली स्थित भारतीय आर्युविज्ञान संस्थान में भर्ती करवाया गया था, जहां इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया था.

लंबे समय से बीमार थीं सुषमा स्वराज
गौरतलब है कि पिछले साल एम्स में सुषमा स्वराज का किडनी ट्रांसप्लांट हुआ था. उन्होंने विदेश मंत्री के तौर पर पांच साल तक सेवा देने के बाद साल 2019 के चुनावों में भाग नहीं लेने का फैसला किया था. सुषमा स्वराज ने कहा था कि अब उनका स्वास्थ्य इसकी इजाजत नहीं देता है. उनके इस फैसले पर उनके पति स्वराज कौशल ने ट्वीट कर उनका शुक्रिया अदा किया था. उन्होंने कहा था कि मैं और नहीं भाग सकता. पिछले कई सालों से भाग रहा हूं लेकिन अब मैं 19 साल का नौजवान नहीं रहा.
लंबा राजनीतिक सफर तय किया
सुषमा स्वराज ने 70 के दशक में राजनीति में दस्तक दीं और अपनी योग्यता, वाक्पटुता, प्रशासनिक क्षमता और बेहतर समायोजन जैसी काबिलियत की बदौलत हरियाणा सरकार में कैबिनेट मंत्री, दिल्ली की मुख्यमंत्री, नेता प्रतिपक्ष और फिर आखिर में विदेश मंत्री जैसे पदों को सुशोभित किया. विदेश मंत्री के तौर पर उनके कार्यों की चौतरफा तारीफ की गई.