श्रीनगर. ईद के मौके पर जम्मू कश्मीर में नमाज शांतिपूर्ण ढंग से हुई। गृह मंत्रालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक, श्रीनगर और शोपियां में सभी प्रमुख मस्जिदों में लोग अच्छी खासी तादाद में घरों से निकले। जम्मू की ईदगाह में करीब 4500 लोग इकट्ठा हुए। वहीं अनंतनाग, बारामूला, बडगाम, बांदीपोरा में भी किसी तरह की अप्रिय घटना नहीं हुई। बारामूला की जामा मस्जिद में करीब 10 हजार लोग नमाज अदा करने पहुंचे।

श्रीनगर में नमाज के बाद एक बार फिर प्रतिबंधों में ढील खत्म कर दी गई। एक दिन पहले ही घाटी में कई स्थानों पर लोगों को ईद की खरीददारी के लिए छूट दी गई थी। हालांकि, मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया है कि रविवार सुबह से ही पुलिसकर्मी गाड़ियों से अलग-अलग इलाकों में गश्त कर रहे हैं और लोगों से जल्द घर लौटने की अपील कर रहे हैं। दुकानदारों से भी दुकान बंद रखने के लिए कहा गया है।

पिछले एक हफ्ते में नहीं हुई कोई बड़ी घटना

केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को 7 अगस्त को निष्प्रभावी कर दिया था। एक दिन पहले ही गृह मंत्रालय की तरफ से कहा गया था कि श्रीनगर और बारामूला में कुछ छोटे-मोटे विरोध प्रदर्शन हुए, लेकिन किसी भी प्रदर्शन में 20 से ज्यादा लोग शामिल नहीं थे। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने भी ट्वीट कर राज्य हालात शांतिपूर्ण होने का दावा किया था।

इंटरनेट-फोन बंद; 300 फोन बूथ बनाए
घाटी में मोबाइल फोन, लैंडलाइन और इंटरनेट पूरी तरह बंद है। इसलिए प्रशासन ने घाटी में 300 टेलीफोन बूथ बनाए हैं। रविवार को इन बूथों पर लंबी लाइनें लगीं। बकरीद मनाने में लाेगाें को कोई दिक्कत न हो, इसके लिए रविवार काे भी कुछ बैंक खुले रखे गए थे।