नई दिल्ली। पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम आगामी 2 सितंबर तक सीबीआई की हिरासत में ही रहना चाहते हैं। उन्होंने इस बात को लेकर खुद ही सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दी है। गौरतलब हो कि आईएनएक्स मीडिया केस को लेकर कांग्रेस सरकार में वित्त मंत्री रहे पी चिदंबरम इन दिनों सीबीआई की गिरफ्त में हैं।
पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को 21 अगस्त को गिरफ्तार किया गया था और वह शुक्रवार तक सीबीआई की हिरासत में हैं। हालांकि उन्होंने रिमांड खत्म होने पर खुद ही सुप्रीम कोर्ट में अर्जी देते हुए कहा है कि उन्हें 2 सितंबर तक सीबीआई की कस्टडी में ही रखा जाए। कहा जा रहा है कि आज सीबीआई चिदंबरम की हिरासत को और बढाने क लेकर किसी तरह का जोर नहीं डालेगी।

ऐसे में अगर उनकी रिमांड नहीं बढ़ाई जाती है, तो फिर उन्हें न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल जाना पड़ सकता है। लिहाजा चिदंबरम ने खुद ही रिमांड बढ़ाने की पेशकश की है। सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार को जस्टिस आर भानुमति और जस्टिस ए एस बोपन्ना की पीठ ने कहा है कि वह भ्रष्टाचार के मामले में सीबीआई हिरासत में भेजने के निचले अदालत के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका पर दो सितंबर को सुनवाई करेगी। ऐसे में चिदंबरम ने 2 सितंबर तक सीबीआई की कस्टडी में ही रहने की पेशकश की है। नई दिल्ली। पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम आगामी 2 सितंबर तक सीबीआई की हिरासत में ही रहना चाहते हैं। उन्होंने इस बात को लेकर खुद ही सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दी है। गौरतलब हो कि आईएनएक्स मीडिया केस को लेकर कांग्रेस सरकार में वित्त मंत्री रहे पी चिदंबरम इन दिनों सीबीआई की गिरफ्त में हैं।
पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को 21 अगस्त को गिरफ्तार किया गया था और वह शुक्रवार तक सीबीआई की हिरासत में हैं। हालांकि उन्होंने रिमांड खत्म होने पर खुद ही सुप्रीम कोर्ट में अर्जी देते हुए कहा है कि उन्हें 2 सितंबर तक सीबीआई की कस्टडी में ही रखा जाए। कहा जा रहा है कि आज सीबीआई चिदंबरम की हिरासत को और बढाने क लेकर किसी तरह का जोर नहीं डालेगी।

ऐसे में अगर उनकी रिमांड नहीं बढ़ाई जाती है, तो फिर उन्हें न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल जाना पड़ सकता है। लिहाजा चिदंबरम ने खुद ही रिमांड बढ़ाने की पेशकश की है। सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार को जस्टिस आर भानुमति और जस्टिस ए एस बोपन्ना की पीठ ने कहा है कि वह भ्रष्टाचार के मामले में सीबीआई हिरासत में भेजने के निचले अदालत के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका पर दो सितंबर को सुनवाई करेगी। ऐसे में चिदंबरम ने 2 सितंबर तक सीबीआई की कस्टडी में ही रहने की पेशकश की है।