मुलायम ने कहा, ‘गरीबों की लड़ाई लड़ने वाले आजम खान जालिम कैसे हो सकते हैं? वह काफी पढ़े-लिखे हैं और एक गरीब परिवार से आये हैं. आज उन्हें पूरे देश में बदनाम किया जा रहा है. मेरी समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं से अपील है कि आजम की जिस तरह की बेइज्जती हो रही है, उसके खिलाफ कल से पूरे प्रदेश में आंदोलन करें. इस आंदोलन में मैं खुद खड़ा होऊंगा.’

मुलायम सिंह जब मीडिया को संबोधित कर रहे थे तो उनकी तबियत ठीक नजर नहीं आ रही थी. वह खांस रहे थे और बीच में कुछ देर रुकर पानी भी पिया.

उन्होंने कहा, ‘जौहर यूनिवर्सिटी में देश-विदेश से छात्र पढ़ने आते हैं. आजम को अपमानित करना, परेशान करना घोर अन्याय है. आजम को अपमानित करना हमें अपमानित करना है. मैं कार्यकर्ताओं से कहना चाहूंगा की वह ध्यान रखें की उनके साथ जो अपमान और अन्याय हो रहा है वह हमारा अपमान है. इस यूनिवर्सिटी को बनाने के लिए उसने दिन-रात मेहनत की है. जौहर यूनिवर्सिटी शिक्षा का मंदिर है जहां गरीबों के बच्चे पढ़ते हैं.’

वहीं जब सपा संरक्षक से आर्टिकल 370 और आर्थिक मंदी को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने इस पर कोई जवाब नहीं दिया. उन्होंने कहा की आज मैं सिर्फ आजम को समर्थन देने आया हूं.

कार्यकर्ताओं से आजम के साथ खड़े रहने की अपील करते हुए उन्होंने कहा, ‘आपके माध्यम(मीडिया) से मैं सभी कार्यकर्ताओ से कहना चाहता हूं की आजम के साथ खड़े रहें।