शराब पीकर गाड़ी चलाने पर पुलिस की गिरफ्त में भुवनेश्वर शहर में आया ऑटो चालक मोटर वाहन कानून (New Motor Vehicle Act) के बदले हुए नियमों के लागू होने के बाद ऐसा करना बहुत महंगा पड़ सकता है, यह ओडिशा के एक ऑटो रिक्शा चालक को पता चल गया है. ओडिशा (Odisha) की राजधानी भुवनेश्वर में पुलिस (Bhuvneshwar Police) ने ऑटो रिक्शा चालक पर यातायात नियम तोड़ने को लेकर 47500 रुपए का जुर्माना लगा दिया.

अधेड़ उम्र के ऑटो चालक हरिबंधु कान्हर (Haribandhu Kahanr) पर पुलिस ने शराब पीकर गाड़ी चलाने समेत कई नियम तोड़ने के आरोप लगाए हैं. कान्हर ने कहा कि उसने सिर्फ एक हफ्ते पहले 25 हजार रुपए में सेकेंड हैंड ऑटो खरीदा था. उसने यह भी कहा कि उसकी गलती सिर्फ इतनी है कि उसने शराब पीकर गाड़ी चलाई, बाकी कोई नियम उसने नहीं तोड़ा है.

पुलिस ने उस पर सामान्य नियम तोड़ने को लेकर 500 रुपए, गैर-अधिकृत व्यक्ति द्वारा वाहन चलाने को लेकर 5 हजार, बिना लाइसेंस के ड्राइविंग के लिए 5 हजार, शराब पीकर वाहन चलाने के जुर्म में 10 हजार, प्रदूषण संबंधी गलतियों के लिए 10 हजार, बिना परमिट गाड़ी चलाने के लिए 10 हजार और रजिस्ट्रेशन और फिटनेस सर्टिफिकेट न होने को लेकर 5 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है. इसके अलावा वाहन का बीमा नहीं होने की वजह 2 हजार रुपए का जुर्माना भी लगा है.

ड्राइविंग टेस्टिंग ट्रैक पर आकर जुर्माने की यह रकम जमा करे. हालांकि कान्हर ने कहा है कि वह इतनी बड़ी रकम नहीं चुका सकता. उसने कहा, ‘मैं समझ नहीं पा रहा हूं कि इतनी बड़ी रकम कैसे चुकाऊंगा. मैंने शराब पीकर गाड़ी चलाने का अपराध किया है, लेकिन इसके अलावा और कोई जुर्म नहीं किया. मेरे पास सभी जरूरी कागजात थे, लेकिन वह घर पर रखे थे. मैं ये कागजात ऑटो में नहीं रखता क्योंकि चोरी होने का डर रहता है.’ ट्रैफिक पुलिस पर मनमानी का आरोप लगाते हुए कान्हर ने कहा, ‘मैंने शराब पीकर गाड़ी चलाने की गलती मान ली थी, लेकिन पुलिस ने मेरी बात नहीं सुनी. मैंने यह भी कहा कि मैं जुर्माना दे दूंगा, लेकिन उन्होंने मनमाने तरीके से इतना बड़ा जुर्माना लगा दिया.’

चालक ने बताया कि ग्रेजुएशन करने के बाद वह काफी दिनों तक बेरोजगार रहा था. उसने पिछले हफ्ते ही 25 हजार रुपए में सेकेंड हैंड ऑटो रिक्शा खरीदा. कान्हर ने कहा, ‘मुझे लगा था कि ऑटो चलाने से मेरी रोजी-रोटी चल जाएगी, लेकिन अब 47 हजार 500 रुपए का चालान मैं कैसे भरूंगा, मुझे समझ नहीं आ रहा है.’ इधर भुवनेश्वर के एडिशनल डीसीपी (ट्रैफिक) अमरेश पांडा ने कहा कि रूटीन चेकअप के दौरान ऑटो चालक को शराब पीकर गाड़ी चलाने का दोषी पाया गया. ट्रैफिक सिग्नल पर जब उसे पुलिसकर्मी ने रोकने की कोशिश की तो वह सिग्नल तोड़कर भागने लगा. इसके बाद जब उससे गाड़ी के कागजात मांगे गए, तो वह भी नहीं थे. इस कारण विभिन्न अपराधों में उस पर 47,500 रुपए का चालान किया गया. आपको बता दें कि बीते दिनों हरियाणा के गुरुग्राम में यातायात नियम तोड़ने को लेकर ऑटो रिक्शा चालक पर 32 हजार और स्कूटी सवार के खिलाफ 23 हजार रुपए का चालान किया गया था.

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में भी ऑटो चालक को 27000 देना पड़ा जुर्माना

भारत सरकार यातायात नियमों को लेकर काफी सख्त है आम जनता जागरूक हो नहीं तो मोटर वाहन कानून (New Motor Vehicle Act) पड़ेगा महंगा