सूत्रों से ये भी जानकारी मिल रही थी कि सपा संरक्षक की ओर से लगातार ये दबाव बनाया जा रहा है कि शिवपाल सिंह को पार्टी में शामिल किया जाए. इसी की बानगी आज देखने को मिली. एक न्यूज चैनल से बातचीत करते हुए प्रसपा अध्यक्ष से जब सपा में वापसी के बारे में पूछा गया तो वह न तो उस बात को नकार सकें और न ही उसका समर्थन कर सकें, हालांकि उन्होंने कहा कि हम बैठ कर इस मामले को सुलझा लेंगे.

समाजवादी पार्टी की लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद के बाद से ही ये अटकलें लगाई जा रही थी अखिलेश और शिवपाल में मनमुटाव दूर कर उन्हें पार्टी में शामिल किया जाएगा.।

इस दौरान उन्होंने ये नहीं बताया कि किसके साथ वह बैठक करेंगे. मीडिया की माने तो वह मुलायम सिंह यादव के साथ बैठक कर चुके हैं, अब मुलायम सिंह शिवपाल और अखिलेश के बीच एक बैठक कर मन मुटाव को दूर कराना चाहते हैं, इसके बाद शिवपाल सिंह यादव की सपा में वापसी हो जाएगी. वैसे तो शिवपाल सिंह की बातों से साफ-साफ झलक रहा था कि वह अभी भी सपा में वापसी करना चाहते हैं, उनका पार्टी के लिए प्रेम अभी भी उतना ही दिखाई देता है जितना कि पहले था.