मारे गए 45 वर्षीय वीरेंद्र मान पुस्तकालय पर नरेला थाने में 13 मामले दर्ज थे इनमें हत्या हत्या के प्रयास और जबरन वसूली के मामले शामिल हैं हत्या की वारदात को वापसी रंजीत और गैंगवार के रूप में देखा जा रहा है हालांकि दिल्ली पुलिस के ज्वाइंट कमिश्नर मनीष अग्रवाल का कहना है कि जांच के बाद ही सही कारणों का खुलासा हो पाएगा पश्चिमी दिल्ली के खेड़ा गांव के रहने वाले काले के परिवार में पत्नी 12 साल का बेटा भाई और मां है इसके पिता की मृत्यु हो चुकी है

बाहरी दिल्ली में रविवार सुबह एक सिस्टर को बदमाशों ने गोलियों से भून डाला वीरेंद्र मानपुर काले बसपा के टिकट पर पार्षद का चुनाव लड़ चुका है उस पर हमलावरों ने 40 राउंड गोलियां दागी जिसमें से करीब 22 राउंड गोलियां उसे लगी सुबह करीब 10:30 बजे नरेला औद्योगिक क्षेत्र में बदमाशों ने उस पर अंधाधुंध गोलियां दाग दी हमलावर पहले से ही घात लगाए बैठे थे जैसे ही काले की कार लामपुर रोड पर पहुंची कार में सवार बदमाशों ने ताबड़तोड़ गोलियां चलानी शुरू कर दी कार सवार बदमाश को अंजाम देने के बाद गांव की तरफ फरार हो गए घटना की सूचना मिलने की मौके पर पहुंची पुलिस काले को कार से बाहर निकालकर पास के राजा हरिश्चंद्र हॉस्पिटल ले गई जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया काले की कार को ड्राइवर दिनेश चला रहा था गोलीबारी की घटना में ड्राइवर बच गया पुलिस अब उससे पूछताछ कर रही है साथ ही यह भी पता लगाया जा रहा है यह कैसे बच गया पुलिस प्रशासन हमलावरों को लगातार टीम के द्वारा छापेमारी कर पकड़ने की कोशिश कर रही है