भारत में ऑटोमोबाइल सेक्टर लगातार मंदी के दौर से गुज़र रहा है. अगस्त में लगातार दसवें महीने गाड़ियों की बिक्री नीचे गिरी है. भारत की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मंगलवार को इस संबंध में बयान दिया.

नई दिल्ली. वित्त मंत्री (Fiancne Minister) निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने अर्थव्यवस्था (Economy) को पटरी पर लाने के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर (Infrastructure) पर जोर देने की बात कही. वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार (Government) इंफ्रास्ट्रक्चर पर 100 लाख करोड़ रुपये खर्च करेगी. खर्च के लिए प्रोजेक्ट्स की पहचान जल्द की जाएगी. प्रोजेक्ट्स बढ़ना चाहिए. सरकार की तरफ से खर्च से कंजम्प्शन बढ़ेगा. सरकार की तरफ से होने वाला निवेश इंफ्रा प्रोजेक्ट्स में तेजी लाएगा.

बता दें कि चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (GDP) की वृद्धि दर छह साल के निम्न स्तर, 5 प्रतिशत पर पहुंच गई. रिजर्व बैंक (RBI) ने अपनी ताजा मौद्रिक समीक्षा में इस वित्त वर्ष की आर्थिक वृद्धि का अनुमान 7 प्रतिशत से घटाकर 6.9 प्रतिशत कर दिया. कुछ वैश्विक एजेंसियों ने इसके 6.5 प्रतिशत या उससे भी कम रहने का अनुमान जताया है.

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक निर्मला सीतारमण ने ऑटोमोबाइल सेक्टर में चल रही गिरावट के पीछे ओला और ऊबर कैब सर्विस को ज़िम्मेदार ठहराया है.

वित्त मंत्री ने अपने बयान में कहा, ”ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री पर बीएस6 और लोगों की सोच में आए बदलाव का असर पड़ रहा है, लोग अब गाड़ी खरीदने की बजाय OLA और UBER को तरजीह दे रहे हैं.”

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के 100 दिन पूरे होने पर वित्त मंत्री चेन्नई में पत्रकारों से बात कर रही थीं. उनके सामने भारत की अर्थव्यवस्था में आई सुस्ती की चुनौती बनी हुई है.

पिछले महीने बीते 21 साल में सबसे कम कारों की बिक्री हुई. ऑटो निर्माता कंपनी सिएम (SIAM) के मुताबिक, घरेलू बाज़ार में इस महीने कारों की बिक्री में 41 फीसदी से ज़्यादा गिरावट दर्ज की गई.

ऑटोमोबाइल सेक्टर में जारी इस गिरावट पर वित्त मंत्री का ऐसा बयान सुनकर लोग अलग-अलग तरह की प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं. सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर #NirmalaSitharaman, Ola and Uber और #Millenial ट्रेंड कर रहे हैं.

कांग्रेस नेता संजय झा ने ट्वीट किया है, ”2.7 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था को ओला और ऊबर नीचे ला रही है. क्या कूल हैं हम”

रूपा सुब्रामन्या ने लिखा है, ”नीति आयोग कहता है, भारत में बेरोज़गारी नहीं है क्योंकि ओला और ऊबर जॉब दे रही हैं. वित्त मंत्री कहती हैं, ऑटो सेक्टर में सुस्ती इसलिए क्योंकि लोग ओला और ऊबर इस्तेमाल कर रहे हैं. यह कैसे हो सकता है कि ओला और ऊबर जॉब तो दे रहे हैं लेकिन कार नहीं खरीद रहे?

जोकर नामक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया, ”अच्छा हुआ अरविंद केजरीवाल सरकार की फ्री मेट्रो सेवा शुरू नहीं हुई, वरना इलज़ाम उनपर लगा देते की दिल्ली में मेट्रो फ़्री हो गई है इसलिए लोग गाड़ी नहीं खरीद रहे.”

निर्मला सीतारमण ने कहा कि यह सरकार सबकी सुनती है, ज़रूरत के मुताबिक और भी घोषणाएं की जा सकती है.