दिल्ली सरकार लोगों को सर्दियों में प्रदूषण से राहत दिलाने के लिए केजरीवाल सरकार फिर से ऑड-इवेन योजना शुरू होगी सरकार ने 4 से 15 नवंबर तक जो पहिया वाहनों के लिए व्यवस्था लागू करने का ऐलान किया है 9 से 10 नवंबर को शनिवार एवं रविवार होने की वजह से नियम में छूट मिलेगी केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा इस कदम की कोई जरूरत नहीं है

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को सचिवालय में आयोजित पत्रकार वार्ता में बताया कि प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए सात बिंदुओं पर कार्य योजना बनी है सीएम ने कहा अक्टूबर-नवंबर में पड़ोसी राज्यों में पराली जलाए जाने से और सर्दियों में होने वाले वायु प्रदूषण से निपटने के लिए यह कदम शुरू की गई है दिल्ली सरकार केंद्र सरकार पंजाब और हरियाणा सरकार से भी इस प्रबंध में बात करेगी साथ ही सुप्रीम कोर्ट का ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान भी लागू किया जाएगा उन्होंने कहा विभिन्न स्तर पर चर्चा में 12:00 सौ से ज्यादा घाव मिले हैं इन्हीं के आधार पर 7 बिंदुओं पर केंद्रित योजनाएं बनाई गई हैं

श्री गडकरी ने रामपुर में कहा अब इसकी कोई जरूरत नहीं है क्योंकि हमने जो नई रिंग रोड बनाई है उससे प्रदूषण दिल्ली में कम हुआ है इसके अलावा मेरा मंत्रालय 50000 करोड़ रुपए सड़क निर्माण पर खर्च कर रहा है मैं समझता हूं कि अगले 2 वर्षों में दिल्ली प्रदूषण मुक्त हो जाएगी

वही 2017 में आईआईटी और आई आई एम के वैज्ञानिकों ने संयुक्त रूप से शोध किया जिसमें पाया गया कि ऑड-इवेन के पहले चरण में प्रदूषण में दिल्ली दो से तीन फ़ीसदी का ही गिरावट आई पिछले 3 साल के दौरान दिल्ली के प्रदूषण में 25 जी की कमी आई है स्वच्छ हवा के लक्ष्य को पाने के लिए इस प्रदूषण में 65 फिसद कटौती की दरकार है

2018 तक दिल्ली की सड़कों पर 31 लाख पंजीकृत वाहन दौड़ते थे दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों की सूची में दिल्ली पिछले कई साल से शामिल रही है सर्वाधिक प्रदूषण की स्थिति में यहां पीएम 10 की स्थित 800 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर तक पहुंच जाती है जो तय मानक से 8 गुना अधिक है सर्वाधिक घातक सूक्ष्म कणो पीएम 2.5 प्रति घन मीटर 400 माइक्रोग्राम तक पहुंच जाता है जबकि इसकी सीमा 60 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर है यह एक बहुत ही सोचनीय विषय है हम अपने पर्यावरण को किस तरीके से सही रखें सरकार के साथ-साथ एक आम नागरिक की जिम्मेदारी है अपने पर्यावरण को बनाए रखने में सरकार की मदद करें