वीडियो शेयरिंग साइट यूट्यूब पर अपलोड किए जा रहे हैं फेक वीडियो और जी वीडियो एक बड़ी समस्या बन गई है यूट्यूब के लिए इन वीडियो को लाखों न्यूज़ मिल जाते हैं कई बार तो लोग इसमें दी गई भ्रामक जानकारियों को सही मान लेते हैं हाल ही में एक शोध में सामने आया था कि यूट्यूब पर देखे गए फर्जी वीडियो के चलते कई लोग धरती को गोल नहीं बल्कि चपटा मानने लगे थे फर्जी चैनल फर्जी वीडियो से निपटने के लिए यूट्यूब कर रहा है तैयारी फर्जी वीडियो से निपटने के लिए गूगल के मालिकाना हक वाली कंपनी पूर्व में कई ठोस कदम उठा चुकी है कई चैनलों को बंद भी कर दिया गया है अब और अधिक भरोसेमंद कंटेंट की गारंटी के लिए यूट्यूब अपने वेरिफिकेशन मापदंड में बदलाव करने जा रहा है बदलाव अगले माह में लागू किए जाएंगे

जिनके अकाउंट एवं चैनल के नाम के आगे लगा ब्लू टिक यूट्यूब में यूट्यूबरो को नोटिस भी जारी कर दिया है जिनके अकाउंट से टिक मार्क हटाया जाएगा सबसे पहले माइक्रो ब्लॉगिंग साइड ट्विटर ने 2016 से अकाउंट अकाउंट को सत्यापित करना शुरू कर दिया था फेसबुक में मालिकाना हक वाले इंस्टाग्राम में 2018 सत्यापित अकाउंट ओं को ब्लूटूथ से चिन्हित करना चिन्हित करना शुरू किया था

सत्यापित होने के लिए कई कारणों पर उतरना होगा यूट्यूब कंपनी का कहना है कि मैं यह बदलाव इसलिए किए हैं ताकि यूजर फर्जी चैनल और वीडियो की पहचान कर सके अब प्राथमिकता कौन चैनलों को सत्यापित करने की है जिन्हें इसकी जरूरत है इसके लिए उन चैनलों को कई मानकों से खरा उतरना होगा तभी उन चैनलों को सत्यापित किया जाएगा नए नियम यूट्यूब रो के लिए बना मुसीबत नियमों में भी बदलाव से कई यूट्यूबरो ने दुख व्यक्त किया है