एन ई रेलवे मेंस कांग्रेस कारखाना मण्ड़ल गोरखपुर के पदाधिकारी तथा रेलवे कर्मचारियों ने भारतीय रेल में आज के दिन को काला दिवस के रूप में मनाया 4 अक्टूबर से रेल मंत्रालय द्वारा यात्री गाड़ियों को आईआरसीटीसी द्वारा चलाए जाने का कर्मचारियों ने खुलकर विरोध किया।
रेलवे को निजी हाथों में बेचने का भारत सरकार का संकल्प का प्रथम दिवस 4 अक्टूबर काला दिवस के रूप मे मनाया गया

इसी के विरोध में आसपास के सभी रेलवे स्टेशनों पर कार्यरत सभी कर्मचारियों ने भी काला फीता बांधकर काला बिल्ला लगाकर शांतिपूर्वक विरोध प्रदर्शन किया
सरकार द्वारा सार्वजनिक उपक्रमों में निजी हाथों में सौंपने का फैसला कर्मचारियों तथा संस्थानों के हित में नहीं है
भारत सरकार दिन प्रतिदिन रेलवे म प्रोडक्शन यूनिट तथा गाड़ियों के संचालन को निजी हाथों में सौंपने जा रही है
और *AIRF और NFIR सरकार और निजी संस्थानों के दलाली में लगे हैं।*

एन ई रेलवे मेंस कांग्रेस परिवार निजीकरण, निगमीकरण के खिलाफ हल्ला बोल चुकी है।
रेल परिवार किसी भी क़ीमत पर निजीकरण को बर्दाश्त नहीं करेगा।