अयोध्या में राम मंदिर समर्थक छावनी के उत्तराधिकारी महंत परमहंस दास ने बाबरी मस्जिद के पक्षकार हाजी महबूब पर गंभीर आरोप लगाते हुए कोतवाली अयोध्या में तहरीर देकर राजद्रोह का केस दर्ज करने की मांग की है तहरीर में उन्होंने पूर्व में एक निजी चैनल के स्टिंग ऑपरेशन के वायरल वीडियो को आधार बनाया है जो सोशल मीडिया पर वायरल है

महंत परमहंस ने दावा किया है कि वीडियो में हाजी महबूब कथित तौर पर 6 दिसंबर 1992 को कारसेवकों पर बम फेंकने की बात स्वीकार है और यह भी कहते हुए दिख रहे हैं कि अगर सुप्रीम कोर्ट का निर्णय भी हिंदुओं के पक्ष में आया तो भी अयोध्या में एक ईंट भी नहीं रखने देंगे

वायरल वीडियो चैनल ने कई बार चलाया था परमहंस दास ने कहा कि अगर कोतवाली में मुकदमा दर्ज नहीं होता है तो वह कोर्ट के शरण में जाएंगे वही अयोध्या सीओ अमर सिंह ने बताया कि तहरीर के आधार पर जांच की जा रही है वहीं आरोपी हाजी अपने आप को निराधार बताते हुए सभी आरोपों को सिरे से नकार दिया हाजी का बयान है कि परमहंस खुद को मीडिया में हाईलाइट करना चाहते हैं इसलिए ऐसे आरोप लगा रहे हैं अगर 1992 में बम चला होता तो हजारों लोगों की मौत होती कोई हताहत नहीं हुआ यही सच्चाई है