17 नवंबर से पहले फैसला संभव सभी पक्षों को लिखित दलील दाखिल करने के लिए 3 दिन का समय दिया गया

सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले में 40 दिन चली जीरा के बाद सुनवाई पूरी कर फैसला सुरक्षित रख लिया सीजीआई रंजन गौसाई की अध्यक्षता वाली 5 सदस्य संविधान पीठ अब सात दशक पुराने देश के सबसे चर्चित इस मामले का फैसला सुनाएगी 17 नवंबर से पहले फैसला आ जाने की उम्मीद है सुनवाई के दौरान दोनों पक्षों की टोका टोकी के बीच कई बार माहौल तनावपूर्ण भी हुआ

सुप्रीम कोर्ट ने संबंधित पक्षों को मोल्डिंग ऑफ रिलीफ के मुद्दे पर लिखित दलील दाखिल करने के लिए 3 दिन का समय दिया इसमें दोनों पक्षों की ओर से अपील के दौरान दिए दांव पर नरमी की गुंजाइश देखी जाती है लेकिन देखने वाली बात यह है की मोल्डिंग ऑफ रिलीज कितने हद तक लागू किया जा सकता है पीठ ने स्पष्ट कर दिया कि अब मौखिक बहस नहीं होगी

चीफ जस्टिस रंजन गुसाईं 17 नवंबर को सेवानिवृत्त हो रहे हैं लिहाजा उससे फैसला आने की उम्मीद है हिंदू महासभा के वकील ने सुनवाई के बात करना सुप्रीम कोर्ट ने साफ कहा है कि फैसला 23 दिन के भीतर आएगा इस बीच कोर्ट ने भाजपा सांसद सुप्रमण्यम स्वामी और बुद्धिस्ट सभा की हस्तक्षेप याचिका पर सुनवाई से इंकार कर दिया कोर्ट ने कहा अब हस्तक्षेप की इजाजत नहीं दी जा सकती