दोस्तों आप सब ये तो जानते ही है माता लक्ष्मी को धन की देवी के रूप में पूजा जाता है उनको धन की देवी भी कहा जाता है । लेकिन आप ये नहीं जानते की माता लक्ष्मी भी तब तक आप पर कृपा नहीं करती ।जब तक आप धन के देवता के रूप में कुबेर देव को पूजा नहीं करते है । इस संसार में सारी धन सम्पदा के एक मात्र मालिक है । ऐसा कहा जाता है की भगवान् कुबेर शिव जी के प्रिय सेवको में से है । इसी कारण यदि आप कुबेर देव को खुश करते हो ।

तो आपको कभी भी धन की कमी नहीं होगी । धन के स्वामी होने के कारण आप कुबेर मंत् का जाप कर भी इन्हे खुश कर सकते हो ।

ॐ यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय, धन धन्याधिपतये धन धान्य समृद्धि मे देहि दापय स्वाहा।

लक्ष्मी कुबेर यज्ञ मूल रूप से धन और समृद्धि को आकर्षित करने के उद्देश्य से किया जाता है। इस यज्ञ के प्रमुख देवता धन की देवी लक्ष्मी और भगवान कुबेर हैं। कुबेर देवता को धनपति, धन के भगवान के रूप में भी जाना जाता है।
लक्ष्मी कुबेर यज्ञ बहुत महत्वपूर्ण है; यह आपके व्यवसाय में अपार धन और अत्यधिक लाभ प्राप्त करने में आपकी सहायता करता है। व्यापार में आ रहे समस्या को खत्म करने का काम करता है लक्ष्मी कुबेर पूजन

यह न केवल धन प्राप्त करने के लिए सबसे शक्तिशाली यज्ञों में से एक माना जाता है, बल्कि यह ऋणों की तेजी से वसूली में भी मदद करता है। इस यज्ञ की सहायता से आपके द्वारा काम पर या व्यवसाय में आने वाली सभी बाधाओं को दूर किया जाता है।
हिंदू धर्म के अनुसार धन की देवी हैं मां लक्ष्मी और मा लक्ष्मी ने धन वितरण का कार्य कुबेर को सौंपा है । इसलिए धन की प्राप्ति हेतु लक्ष्मी और कुबेर दोनों की आराधना करना आवश्यक होता है । खासतौर पर दीपावली के शुभ अवसर पर वैसे तो मां लक्ष्मी की पूजा आप रोजाना कर सकते लेकिन साल में एक बार दीपावली में विशेष महत्व होता है इस पूजन का लक्ष्मी कुबेर यज्ञ कराने पर शुभफल प्राप्त होते हैं ।